मंगलवार, 21 अप्रैल 2009

मुकदमों के 'गाड फादर' बने सुधीर ऒझा

मुजफ्फरपुर के सुधीर ऒझा (पेशे से वकील) आज किसी परिचय के मोहताज नहीं है। ये हर पल दूसरे पर हो रहे जुल्म के खिलाफ कानूनी लड़ाई लड़ने के लिए तैयार रहते हैं। इसके लिये बड़े-बड़े हस्तियों से धमकियां भी मिलती रह्ती हैं। हालांकि इस बात का जिक्र ये नहीं करते। परंतु जिन हस्तियों से इनकी लड़ाई चल रही है। ये कोई छोटे लोग नहीं हैं। सुनकर घोर आश्चर्य होगा कि विभिन्न मामलों में सोनिया गांधी, रेलमंत्री लालू प्रसाद, मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे, लोजपा सुप्रीमो रामविलास पासवान, बंगाल के मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य, फिल्म अभिनेत्री ऎश्वर्या राय के खिलाफ सुधीर ऒझा मुकदमा दर्ज कर चुके हैं। कुल मिलाकर वे अब तक 181 से अधिक मुकदमा दर्ज कर चुके र्है। कुछ पर सुनवाई चल रही है तो कुछ को अदालत ने सुनवाई के लिए स्वीकार कर लिया है। सुधीर का मानना है कि जागरूक वकील होने के नाते वे भ्रष्ट्राचार जैसे मुद्दे को उठाते हैं। सुधीर ने सबसे पहले 2005 में हाजीपुर रेलवे जोनल आफिस के स्थानांतरण पर रोक लगवाने के लिए हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर की थी। मुजफ्फरपुर को-आपरेटिव बैंक में फसल बीमा के 1600 करोड़ रुपये के घोटाले के खिलाफ भी उन्होंने याचिका दर्ज की। इस मामले में कार्रवाई हुई जिसका फायदा किसानों को मिला। कोर्ट फीस में बेतहाशा वृद्धि के खिलाफ भी वे आगे आये। बाद में सरकार ने इसपर अमल किया, जिससे कि बिहार की जनता को काफी राहत मिली। हालांकि इस मामले में पूरे बिहार के वकील भी एकजुट थे। इसके बावजूद सुधीर के प्रयास को नकारा नहीं जा सकता है। रेल मंत्री लालू प्रसाद व ग्रामीण विकास मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह ने वर्ष 2007 में बिना अनुमति एनएच-28 पर हेलीकाप्टर उतार दिया था। इस मामले में श्री ऒझा ने याचिका दायर की। कई सुनवाई के बाद अदालत ने एसपी को इस संबंध में रिपोर्ट देने के लिए कहा है। बिहारियों को अपमानित करने व धार्मिक भावना को ठेस पहुंचाने को लेकर उन्होंने मनसे प्रमुख राज ठाकरे के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया। मुजफ्फरपुर की अदालत राज ठाकरे के खिलाफ वारंट भी जारी कर चुकी है। रामविलास पासवान के खिलाफ वे धोखाधड़ी का मामला दर्ज करा चुके हैं। धार्मिक भावना को ठेस पहुंचाने के लिए वे सोनिया गांधी के खिलाफ मामला दर्ज करा चुके हैं। इस मामले में कोर्ट से नोटिस भी जारी की जा चुकी है। इसी तरह फिल्म अभिनेता ऋतिक रौशन व अभिनेत्री ऎश्वर्या राय के खिलाफ फिल्म धूम-2 में अश्लील सीन देने के लिए मुकदमा दायर कर चुके हैं। सुधीर राजेश खन्ना, जरा खान, करीना कपूर, अजय देवगन, अरशद वारसी पर भी मामला दर्ज करा चुके हैं। हाल ही में पद्मश्री सम्मान, महामहिम राष्ट्रपति व देश का अपमान करने के लिए वे भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान महेन्द्र सिंह धौनी व हरभजन सिंह के खिलाफ जनहित याचिका दायर कर चुके हैं। इसी तरह मुजफ्फपुर नगर निगम में घोटाला, राशि रहने के बाद भी नाला व पार्क निर्माण में देरी, सदर अस्पताल में पांच करोड़ की बंदरबांट के खिलाफ मामला दर्ज करा चुके हैं। इसी तरह बिहार में जर्जर रेलवे पुल के निर्माण के लिए उन्होंने हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर की। मुजफ्फरपुर व्यवहार न्यायालय परिसर में जलजमाव के खिलाफ मेयर समेत कई अधिकारियों पर मामला दर्ज करा चुके हैं। मुजफ्फरपुर रेलवे ऒवरब्रिज पुल गिरने से कई लोगों की मौत हो गयी थी। इस मामले में भी सुधीर ने रेल मंत्री लालू प्रसाद और इरकान के कई अधिकारियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया। मुजफ्फरपुर नगर निगम के महापौर चुनाव में करोडों रुपये के खरीद-फरोख्त मामले में नगर विधायक विजेन्द्र चौधरी के खिलाफ मुकदमा दर्ज करा चुके हैं। दवा खरीद में लाखों के घोटाले मामले में वे पूर्व मुख्य सचिव एके चौधरी, निदेशक डा. गीता प्रसाद समेत कई पर मामला दर्ज करा चुके हैं। प्राइवेट स्कूलों में बेतहाशा फीस वृद्धि के खिलाफ सुधीर ने हाल ही में जनहित याचिका दर्ज करायी है। इस तरह दर्जनों और मामलों में सुधीर मुकदमा दर्ज कर चुके हैं। कई की सुनवाई लगभग पूरी हो चुकी है। सुधीर की याचिका ने बड़े-बड़े नेताऒं के होश उड़ा दिये हैं। एक सवाल के जवाब में सुधीर ने बताया कि भष्ट्राचार, घोटाला के खिलाफ उनकी लड़ाई हमेशा जारी रहेगी।

2 टिप्‍पणियां: